www.cyberdonindia.com

Don’t set goal- it’s harmful – LIFE HACK

Factology Health

Don’t set goal – Just focus on system – LIFE HACK
क्या आपको पता है कि सिस्टम, लक्ष्य से बेहतर क्यों है ?

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हमारी उम्र, व्यवसाय या लिंग क्या है?, पर हम सभी के पास लक्ष्य हैं जिन्हें हम हासिल करना चाहते हैं. ये व्यक्तिगत, पेशेवर या आपके जीवन के किसी भी पहलू के बारे में हो सकते हैं. मैं एक अच्छी बॉडी पाना चाहता हूँ ? यह एक लक्ष्य है. मैं एक किताब लिखना चाहता हूँ? यह एक लक्ष्य है. मैं फुटबॉल चैंपियनशिप जीतना चाहता हूँ ? यह एक लक्ष्य है. बेशक, ये सभी लक्ष्य हासिल किये जा सकते हैं, अगर आप जानते हैं कि उन्हें कैसे हासिल करना है? तो अभी के लिए सभी लक्ष्यों को भूल जाओ, क्योंकि आपको सिस्टम पर ध्यान केंद्रित करने की जरुरत है.

System vs. Goals

इसमें कोई बुराई नहीं कि आप अपने लिए लक्ष्य सेट करते हैं पर क्या आपको पता है कि शायद आप उस लक्ष्य को कभी हासिल ही ना कर पायें अगर आपके पास एक सही प्लान या सिस्टम ना हो तो. सिस्टम और लक्ष्य के बीच में बहुत बड़ा अंतर है और सिस्टम हमेशा लक्ष्य से कुछ कदम आगे है. उदाहरण के लिए, अगर आपको लिखने का शौक है और हमेशा से आप एक लेखक बनना चाहते थे, तो आपका लक्ष्य होगा कि आप कोई किताब लिखें. हांलाकि इसके लिए आपको एक सिस्टम या प्रणाली बनानी होगी ताकि आप किताब लिख सकें . यह अपने आप नहीं लिखी जा सकती आपको इसके लिए समय निर्धारित करना होगा, हर दिन कुछ पन्ने लिखने होंगे, उस किताब के लिए शीर्षक या किरदार चुनने होंगे. यह एक सिस्टम है कोई किताब लिखने के लिए, जिन्हें पूरा किये बिना आपकी किताब कभी लिखी ही नहीं जा सकती.

इसी तरीके से अगर आपको गाने का शौक है और आप एक अच्छा गाना गाना गायक बनना चाहते हैं तो इसके लिए भी आपको एक सिस्टम या तरीका अपनाना होगा ताकि आप अपना लक्ष्य हासिल कर सकें जैसे__ आपको सुबह जल्दी उठाना है ( यह एक सिस्टम है), सुबह उठकर रियाज करना है ( यह एक सिस्टम है), वाद्ययंत्र बजाना सीखना है ( यह एक सिस्टम है), और इसी तरह से बहुत कुछ. इसलिए लक्ष्य तो हर कोई बना सकता है पर आपको उस लक्ष्य को हासिल करने का सिस्टम पता होना चाहिए.

नीचे हमने कुछ कारण बताये हैं कि क्यों आपको लक्ष्य से ज्यादा सिस्टम (प्रणाली) पर ध्यान देना चाहिए ?

 

Goals can make you unhappy in present

www.cyberdonindia.com

मान लीजिये आपने कोई लक्ष्य निर्धारित कर लिया कि भविष्य में आप के पास ये चीज होगी या आप चाहते है कि भविय में आप ये बन जायेंगे. अब ये सारी चीजें तो भविष्य में होने वाली हैं पर आपका दिमाग अभी से आपको भविष्य में होने वाली चीजों के बारे में बार-बार याद दिलाता रहता है और यह हमेशा आपको बताता रहता है कि अभी तक आपने भरपूर कोशिश नहीं की है है अपना लक्ष्य हासिल करने के लिए या आप अभी तक अक्षम को अपने भविष्य के तैयारी को लेकर. इस तरह से आप वर्तमान में निराश महसूस कर सकते हैं जो आपके भविष्य के लक्ष्य के लिए मुश्किल पैदा कर सकता है. इसलिए बजाय इसके कि आप भविष्य के लक्ष्य को लेकर चिंतित हों, आपको अपना धयान अपने आज पर केन्द्रित करना होगा और उन चीजों के बारे में सोचना होगा कि आप भविष्य के लक्ष्य को हासिल करने के लिए आज क्या कदम उठा रहे हैं या आप के पास आज क्या सिस्टम या तरीके मौजूद हैं जिनसे आप अपना लक्ष्य पूरा कर सकते हैं.

Goals can be washed up overnight

www.cyberdonindia.com
image courtesy__ pixabay

आप सोचते होंगे कि एक लक्ष्य आपको लम्बे समय तक प्रेरित रखेगा कुछ हद तक यह सही भी है पर हमेशा नहीं क्योंकि मान लीजिये आपको कोई किताब लिखनी है और उसके लिए आप हर रोज़ कुछ पन्ने लिखते हैं ताकि आपकी किताब पूरी हो जाये. या फिर आप मैराथन दौड़ की तैयारी कर रहे हैं और इसके लिए आप कुछ दिन कड़ी मेहनत और ट्रेनिंग करते हैं ताकि आप मैराथन के लिए खुद को तैयार कर सकें. अब कुछ दिन में आपकी किताब लिख कर पूरी हो गयी और कड़ी ट्रेनिंग के बाद आप मैराथन भी जीत गए. उसके बाद क्या ? उसके बाद वापिस आप अपनी पुराणी जिंदगी में लौट जाते हैं जहाँ आप तब तक प्रेरित नहीं रहेंगे जब तक आपके पास कोई लक्ष्य ना हो. पर इन सबके उलट सिस्टम (प्रणाली) एक दिनचर्या है, एक आदत है जो आप कभी छोड़ना नहीं चाहेंगे. इसलिए अगर आप अपना खुद का सिस्टम बना पाए तो आप हमेशा ही प्रेरित रह पायेंगें और जीवन में हमेशा आगे बढ़ते रहेंगे.

Goals are not predictable

www.cyberdonindia.com
image courtesy__ pixabay

अक्सर जितना हम सोचते हैं हम उतना ही कर पाते हैं, हम भविष्य की भविष्यवाणी नहीं कर सकते. जब भी हम खुद के लिए कोई लक्ष्य निर्धारित करते हैं, तो हम भविष्यवाणी करने का प्रयास करते हैं कि जब हम अपना लक्ष्य पा लेंगें, तो हमारा भविष्य कैसा होगा. दुर्भाग्यवश, हर किसी को अपना लक्ष्य हासिल करने के लिए कोई सामान कार्य प्रणाली नहीं है. और हम सिर्फ भविष्य में लक्ष्य पूरा हो जाने का केवल अनुमान लगा सकते हैं. पर अगर आप अपना खुद का सिस्टम बना लेते हैं कि कोई लक्ष्य कैसे हासिल करना है तो आप भविष्य में कोई भी लक्ष्य आसानी से हासिल कर सकते हैं और लक्ष्य हासिल करने के रस्ते में आने वाली हर चुनौती को सरलता से परे हटा सकते, हर वो चुनौती जो आपको अपने लक्ष्य से डिगाने का प्रयास करे या लक्ष्य के आखिरी दौर में आपको पहुँचने से रोके.

तो दोस्तों यहाँ हमने आपको बताये क्यों आपको लक्ष्य तय करने से ज्यादा अपना खुद का सिस्टम विकसित करने पर ध्यान देना चाहिए. जिससे कि आप अपने जीवन का कोई भी लक्ष्य बड़ी आसानी से पा सकेंगे.

अगर आपको ऊपर दिए गए तरीके अच्छे लगे और आपको उनसे फायदा हुआ हो तो अपना अनुभव हमारे साथ नीचे comment box में जरूर लिखें. उम्मीद करते हैं कि ऊपर दी हुई जानकारी ने आपका ज्ञान जरूर बढाया होगा. तो दोस्तों आज का टॉपिक यहीं ख़त्म करते हैं, और अगर आपको आज का टॉपिक पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों और सोशल media पर भी शेयर करें.

आपके मन में टॉपिक से जुडा कोई भी सुझाव या सवाल हो तो उसे नीचे comment box में जरूर लिखें.

दोस्तों आप हमारे blog को सीधे अपने फ़ोन से अपने Whatsapp, Facebook या फिर twitter पर लाइक या शेयर कर सकते है.

ऐसी ही और भी interesting टॉपिक्स पर अच्छे-अच्छे article article पढ़ने के लिए आप हमें subscribeभी कर सकते हैं. subscribe करने के लिए यहाँ क्लिक करें …. Sub me

धन्यवाद !!

 

2471total visits,6visits today

Leave a Reply